गुरुवार, 27 जनवरी 2011

ठेका किसे मिलेगा... :-देव

तीन ठेकेदार एक पुलिया की मरम्मत के ठेके के लिए बोली लगाने पहुंचे। अधिकारी उन्हें उस पुलिया पर ले गया जिसकी मरम्मत होनी थी।

पहले ठेकेदार ने जेब से फीता निकाला, कुछ नापतौल की, कैलकुलेटर पर कुछ हिसाब लगाया और बोला – मैं इस काम को 90000 रुपए में कर दूंगा। 40000 सामग्री के लिए, 40000 मजदूरों के लिए और 10000 मेरे लिए।

दूसरे ठेकेदार ने भी नाप तौल की, कुछ हिसाब लगाया और बोला – 70000 रुपए। 30000 सामग्री के लिए और 30000 मजदूरी के। बाकी 10000 मेरे।

तीसरे ठेकेदार ने न नापतौल की न हिसाब लगाया। अधिकारी के कान के पास मुंह ले जाकर कहा – 270000 रुपए।

अधिकारी बोला – देख नहीं रहे। दूसरा 70000 में करने को तैयार है । कुछ नापतौल तो करो, हिसाब तो लगाओ तब बोलो।

तीसरा ठेकेदार फिर उसके कान में फुसफुसाया – पूरी बात तो सुनिए …… । एक लाख मेरे, एक लाख आपके और 70000 दूसरे वाले ठेकेदार के लिए जो यह काम करके देगा।

तो बताईए ठेका किसे मिला होगा.....

जय हिन्द
देव कुमार झा

7 टिप्‍पणियां:

शिवम् मिश्रा ने कहा…

अब इनाम तो तुम देने वाले नहीं ... फिर भी बोले देते है ...

तीसरे वाले को ...

ठीक बोले ना ... ??

संजय भास्कर ने कहा…

तीसरे वाले को ...

ललित शर्मा ने कहा…


जो ज्यादा देगा बचत,
कम खर्चेगा माल ।
उसे ही ठेका मिलेगा श्रीमान

घर घर में माटी का चूल्हा

देव कुमार झा ने कहा…

देखा... सही ज़वाब दिया सभी नें.....
मेरा भारत महान ऐसे ही थोडे बना है भाई.....

वन्दना ने कहा…

सही कह रहे हैं।

संगीता पुरी ने कहा…

मेरा भारत महान ऐसे ही थोडे बना है भाई.....

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

आप जैसा अर्थशास्त्री कहाँ छिपा था?